Please assign a menu to the primary menu location under menu

ChambaCricketHealthHimachalKangraShimlaTrending

दीपक जलाते समय जरुर कर लें यह काम, घर में लग जाएगा पैसों का अंबार


Direction Of Diya In Mandir : सनातन धर्म में भगवान के सामने, तुलसी पौधे के नीचे और घर के मुख्य द्वार पर दीपक (Lightning Lamp) जलाया जाता है। वहीं हिन्दू धर्म में प्रत्येक घर में दीया जलाकर भगवान की आरती की जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दीपक जलाने का केवल धार्मिक महत्व ही नहीं है बल्कि दीपक जलाने से नकारात्मक एनर्जी (Negative Energy) भी दूर होती है और वास्तु दोष (Vastu Dosh) को दूर करने में भी सहायता मिलती है। यही कारण है कि लोग सुबह शाम अपने घर पर दीपक जला कर भगवान की पूजा करते हैं। ज्योतिष शास्त्र (Astrology) के अनुसार दीपक जलाने के कुछ उपाय बताए गए हैं। कहा जाता है कि इन उपायों को करने से घर में सुख समृद्धि और शांति बनी रहती है। तो चलिए जानते हैं दीपक जलाने के समय क्या उपाय करने चाहिए और इससे क्या फयदा होता है।

जानिए दीपक जलाने के नियम

शास्त्रों की मानें तो देवी देवताओं के सामने पूजा के दौरान दीपक जलाने से ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है। कहते हैं कि दीपक जलाते समय घी का दीपक अपने बाएं हाथ और तेल का दीपक दाएं हाथ की ओर रखना बेहद शुभ माना जाता है।
चने की दाल

माना जाता है कि यदि चने की दाल के ऊपर तेल का दीपक जलाया जाए तो, घर का आर्थिक संकट दूर होता है। ऐसा करना बेहद शुभ माना जाता है।
उड़द

यदि आप भी उन लोगों में से है जिन्हें बार-बार नजर लग जाती है जिसके कारण आपको परेशानी होती है, तो आप इस उपाय को कर सकते हैं। शास्त्रों के मुताबिक दीपक के नीचे उड़द दाल रखें और दीये को पश्चिम दिशा में रख दें तो नजर दोष से छुटकारा मिल जाता है।
चावल

सनातन धर्म में पूजा अनुष्ठान में चावल को पूजनीय माना जाता है। हिंदू धर्म में अक्षत के रूप में पूजा पाठ के दौरान चावल का प्रयोग होता है। माना जाता है कि दीपक के नीचे चावल रखकर दीया जलाने से घर में सुख समृद्धि के साथ-साथ धन दौलत की भी बारिश होती है।
गेंहू

माना जाता है दीपक के नीचे गेहूं रखने के भी कई प्रकार के लाभ होते हैं। गेहूं को दीपक के नीचे रख कर दीया जलाने से आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है। कहा जाता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी और अन्नपूर्णा देवी की कृपा बनी रहती है। जिंदगी में सभी काम बनते रहते हैं।

himachalse
the authorhimachalse

Leave a Reply