Dharam

तकिये के नीचे पांच तुलसी की पत्तियां रखने से कौन-कौन से फायदे होते हैं।

हम सभी अपने पूजा घर में बहुत सारी चीजें रखते हैं। हम सभी अपने मन पूजा घर में तरह-तरह की मूर्तियां रखते हैं और उनकी पूजा करते हैं। लेकिन बहुत ही कम लोगों को यह जानकारी है कि पूजा घर में कौन-कौन सी भगवान की मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए।

कुछ मूर्तियाँ ऐसी होती हैं जिन्हें पूजा घर में रखने से घर के सुख समृद्धि में बाधा आती है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं की पूजा घर में कौन-कौन सी मूर्तियां भूलकर भी नहीं रखनी चाहिए।

tulsi-ke-patt-takiye-ke-niche

राहु केतु शास्त्रों के अनुसार राहु केतु की मूर्तियां पूजा घर में नहीं रखनी चाहिए क्योंकि इन्हें पापी ग्रह माना जाता है। जब हम पर कोई भी ग्रह होता है तो इनकी पूजा करना फलदाई माना जाता है लेकिन इन्हें अपने घर लाना अशुभ माना जाता है। इनकी पूजा घर से बाहर की जाती है।

शनि देव शनि देव सूर्य देव के पुत्र हैं। इनकी मूर्ति घर के मंदिर में नहीं रखी जाती है। इनकी पूजा घर के बाहर ही की जाती है इतना ही नहीं बल्कि सूर्यास्त होने के बाद ही शनिदेव की पूजा होती है।

नटराज नटराज शिव जी का रूद्र रूप है। ऐसा कहा जाता है कि शिव जी यह रूप कब धारण करते हैं जब वह भी है गुस्से में होते हैं इसलिए ऐसा कहा जाता है कि मंदिर में नटराज की मूर्ति नहीं रखनी चाहिए।

भैरव देव भैरव देव तंत्र विद्या के देवता है। भैरव देव की मूर्ति भगवान शिव की प्रतिमा है। लेकिन भैरव देव की मूर्ति घर में रखने से घर में सुख शांति नहीं रहती है इसलिए घर में भैरव देव की मूर्ति नहीं रखनी चाहिए।

Leave a Reply