Cricket

जिम्बाब्वे क्रिकेट के ‘चमत्कारी दिन’ में जादूगर बने मिचेल स्टार्क, 1 विकेट लेकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

जिम्बाब्वे ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया और तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला खेली जहां वे हार गए लेकिन एक जीत भी मिली जिसने अफ्रीकी देश के इन खिलाड़ियों को भविष्य में बेहतर क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया है। यह जीत तीन मैचों की वनडे सीरीज का आखिरी मैच है जहां जिम्बाब्वे कंगारुओं को उसकी ही धरती पर 3 विकेट से हराने में सफल रहा। यह बड़ी उपलब्धि है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया काफी मजबूत टीम है।

जिम्बाब्वे की चमत्कारिक जीत

जिम्बाब्वे अब 90 के दशक की टीम नहीं है। लेकिन फिर भी यह एक उभरती हुई टीम साबित हुई जब उसने टाउंसविले में खेले गए तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया को 31 ओवर में 141 रनों पर समेट दिया और फिर 39 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 142 रन बनाकर मैच जीत लिया। यह एक यादगार दिन होगा। इस दौरान जिम्बाब्वे के गेंदबाज रेयान बर्ल ने 3 ओवर में 10 रन देकर 5 विकेट लिए।

मिशेल स्टार्क बने वर्ल्ड रिकॉर्ड

जिम्बाब्वे के बेहतरीन प्रदर्शन के बीच ऑस्ट्रेलिया के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने भी एक रिकॉर्ड अपने नाम किया। स्टार्क ने इस मैच में 8 ओवर में 33 रन दिए और एक विकेट लिया, जिसके साथ ही वह वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे तेज 200 विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं।

स्टार्क हमेशा से ही तूफानी गेंदबाज रहे हैं और उन्हें टेस्ट क्रिकेट की तुलना में सफेद गेंद का काफी जबरदस्त गेंदबाज माना जाता रहा है। उनके पास 90 मील प्रति घंटे की रफ्तार से बेहद घातक यॉर्कर है, जिसकी वजह से वह गेंदबाजों की सूची में काफी ऊपर आते हैं। मिचेल स्टार्क ने सिर्फ 102 मैचों में 200 विकेट लिए हैं, जो उनकी क्षमता को दर्शाता है।

200 विकेट लेने में सबको पीछे छोड़ा

उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व ऑफ स्पिनर सकलेन मुश्ताक का रिकॉर्ड तोड़ दिया है, जिन्होंने 104 मैचों में यह उपलब्धि हासिल की थी। इसके साथ ही ब्रेट ली का रिकॉर्ड भी टूट चुका है। ली ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे तेज 200 विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। उन्होंने 112 मैचों में ऐसा किया।

तेज गेंदबाजों में डोनाल्ड ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 117 वनडे और 200 वनडे विकेट लिए। तो वही वकार यूनिस ने पाकिस्तान के लिए 118 मैच खेले और इतने ही विकेट हासिल किए।

टी20 विश्व कप के लिए जिम्बाब्वे का आत्मविश्वास बढ़ा

इस जीत से अक्टूबर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप के लिए जिम्बाब्वे का काफी आत्मविश्वास बढ़ा है। जिम्बाब्वे के कप्तान रेजिस चकाब्वा और गेंदबाज रेयान बर्ल दोनों ने इस बात को स्वीकार किया है। जिम्बाब्वे की टीम फिटनेस, ट्रेनिंग पर कुछ काम करने के बाद टी20 विश्व कप में जाने के लिए बेताब है, जहां वे ग्रुप चरण से शुरुआत करेंगे, जो सुपर 12 चरण से पहले शुरू होगा।

 

Leave a Reply